अनोखी पहल :: 6 हजार रूपये की नौकरी करने वाले रोहित ने 4 लोगों को ,8 हजार रूपये प्रतिमाह की नौकरी पर रखा

0
95

इंदौर 13 मार्च 2018 मै रोहित पिता राजू वर्मा निवासी 633 नंदन नगर इंदौर में अनुसचित जाति वर्ग का हूं। मै बेरोजगार युवक था। मेरे परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी। मैं अपने परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक करने की बहुत कोशिश करता था। जिसके लिए मैंने कई बार मजदूर की कमी प्रायवेट नौकरी की कपड़े की दुकान पर मुझे 6 हजार प्रति माह मिलते थे। घर भी रात केा 9:30 से 10 बजे तक पहुंच पाता था। जिससे मैरे घर वालो को भी मेरे आना जाने की बहुत चिन्ता होती थी। और इस मंहगाई के जमाने में 6 हजार रूपये मैं मेरा परिवार बमुश्किल गुजारा कर पाता था। एक दिन मुझे मेरे मित्र द्वारा मुख्यमंत्री योजना के बारे में पाते चला कि यह योजना अन्त्यवासायी सहकारी समिति मर्या. इंदौर कलेक्टोरेट रूम नं. 205 कार्यालय द्वारा संचालित हैं मैं अपने समस्त प्रमाण पत्र जैसे जाति प्रमाण पत्र व मार्कशीट लेकर अन्त्यावसायी कार्यालय गया जहां पर विभाग के अधिकारी द्वारा मुझे इस योजना के बारे में समझाया गया कि यह योजना अनुसूचित जाति वर्ग के बेरोजगार व्यक्तियों के लिए है। मुझे यह योजना अच्छे से समझा कर ऋण आवेदन फार्म दे दिया गया और मैने यह फार्म होजरी व्यवसाय के लिए भरा जिसका मुझे अनभव भी था। ऋण आवेदन फार्म बैंक ऑफ इंडिया शाखा अन्नपूर्णा रोड पहुंचा दिया गया। फिर मुझे एक दिन मेरा इंटरव्यू लिया और मेरे समस्त ओरिजन्ल प्रमाण पत्र अधिकार द्वारा जांचे गये और उस के बाद मेरा 6 लाख रूपये का ऋण स्वीकृत कर वितरण कर दिया गया और अन्त्यावसायी विभाग द्वारा मुझे 1 लाख 80 हजार रूपये मार्जिन मनी/ अनुदान राशि भी बैंक में दे दी गई।

      मैने होजरी व्यवसाय के लिए कारखाना प्रति माह 5 हजार रूपये पर किराये से लिया हैं। जिसमें लेगीज टॉप  आदि का निर्माण करता हूं। 5 लाख रूपये का समान मेरे द्वारा कपड़ा सुई धागा आदि समान खरीद लिया गया हैं। और 1 लाख रूपय का कार्यशील पुजी के रूप में रखी हैं। मेरे कारखाने में 4 लोग व मुझे मिला कर 5 व्यक्ति कार्य कर रहे हैं। मेरे द्वारा 4 व्यक्तियों को जॉब वर्क दिया गया जिसमें मैं प्रति व्यक्ति 8 हजार रूपये प्रति माह वेतन के रूप में देता हूं और 8 हजार रूपये प्रति माह में बैंक की किस्त जमा करता हूं। 5 हजार रूपये प्रति माह किराया32 हजार रूपये वेतन8 हजार रूपये बैंक किस्त व 10 हजार रूपये अन्य खर्च कुल व्यव 55 हजार रूपये प्रति माह खर्च करने के बाद भी मुझे 20 से 25 हजार रूपये तक की बचत हो जाती हैं।

      अब मेरे परिवा की हालत पहले से अच्छी हो गई हैं। मैने अपने कच्चे मकान को थोडा बहुत पक्का भी कर लिया हैं। मेरे द्वारा 4 लोगो को जॉब वर्क भी मिल रहा हैं। मैं शासन की योजना के बारे में अपने साथी व रिस्तेदार को बताता हूं। इस योजना में मुझे एक लाख 80 हजार रूपये अनुदान/मार्जिन मनी भी प्राप्त हुई। मेरा परिवार बहुत खुश हैं। मै अपने व्यवसय को और अधिक बढ़ाना चाहता हूं। जिसके लिए मै बहुत मेहनत करता हूं, जिससे मेरा व्यवसाय ओर आगे बढ़े। मैं मुख्यमंत्री जी को बहुत धन्यवाद देता हूं।