आज समाज मे बच्चे बड़ो का आदर भूलते जा रहे है- पं. अजय शास्त्री 

0
19
देवास। कथा मनोरंजन का विषय नही है मनोमंथन का विषय है । समाज में जो कुरीतिया है वह ग्रंथो के माध्यम से ही दूर की जा सकती हैं, इसलिए हमारे घर में जो ग्रन्थ है वे केवल रखने के लिए नही अपितु पढऩे के लिए होते है। आज समाज में बच्चे बड़ो का आदर भूलते जा रहे है इसका सबसे बड़ा कारण है बच्चों को धर्म से अलग रखना। जिस तरह हम भूमि में बीज बोते हैं जिसका फल हमें तीन से चार माह में मिलता है। बीज जितना अच्छा बोया होगा उतना ही अच्छा फल होगा। इस तरह इस जन्म में धर्म के मार्ग पर चलते हुए सतकर्म और पुण्यदान करेंगे उसका फल हमे इस जन्म में तो मिलेगा। उक्त उद्गार संस्था मातृशक्ति युवा संगठन के तत्वाधान में सिंधी कालोनी मे आयोजित श्रीमद भागवत कथा के द्वितीय दिवस कथावाचक पं. अजय शास्त्री ने कही। महाराज श्री ने सुखदेव जी महाराज ने राजा परीक्षित के श्रापके निवारण के लिए श्रीमद भागवत की कथा से मोक्ष प्राप्ति बताई। संगठन संयोजक दीपक बैरागी ने बताया कि व्यासपीठ की आरती में संस्था अध्यक्ष शान्तिलाल मालवीय, सुरेश सिलोदिया, बाबु यादव, रूपेश चोरसिया, राजेश जसवानी राजकमलसिंह डाबी, बापू वाघे, लोकेश शर्मा, अशोक कुशवाह, राजेंद्र सिंह सहित समिति के प्रमेश शर्मा, छोटू डाबी, मनोज सिलोदिया, मोहनसिंह चौहान, इंदरसिंह चौहान, अंतरसिंह देवड़ा, राहुल कश्यप, राजसिंह राजपूत, विशाल बैरागी  एवं  महिला मण्डल उपस्थित था। उक्त जानकारी समिति दुर्गेश चिलोरिया ने दी।