कन्नौद न्यायालय में नेशनल लोक अदालत

0
56
पति-पत्नी ने एक दूसरे को माला पहनाई और बच्चे को लेकर खुशी-खुशी घर चल दिए
74 लाख रुपए के मामले निपटे
कन्नौद। लोक अदालत का है यह नारा, दोनों जीते कोई ना हारा की तर्ज पर राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण के निर्देशानुसार शनिवार आठ दिसंबर को कन्नौद न्यायालय में भी नेशनल लोक अदालत का आयोजन किया गया है इस अवसर पर  अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश  सुश्री नीता गुप्ता ,प्रथम श्रेणी मजिस्ट्रेट श्री सुनील अहिरवार , व्यवहार न्यायधीश वर्ग दो  श्री जितेंद्र मेहर , व्यवहार न्यायाधीश वर्ग दो सुश्री मीता पंवार, एडीपीओ श्री नरेश चरावंडे ,अभिभाषक संघ के अध्यक्ष श्री संजीव कुंडल, सचिव विनोद पटवा, विजय बोहरे शासकीय अधिवक्ता दिनेश चंद्र तिवारी ने सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्वलित कर  नेशनल लोक अदालत की शुरुआत की। इस अवसर पर एडीजे सुश्री नीता गुप्ता ने पक्षकारों को टाफियां भी वितरित की । एडवोकेट शैलेंद्र पांचाल ने बताया कि लोक अदालत में कुल 91 प्रकरणों का निराकरण आपसी समझौते एवं सुलह से किया गया जिसमें कुल 73 लाख 76 हजार 965  रु. रूपए की अवार्ड  वसूली पारित हुई। प्रथम श्रेणी न्यायिक मजिस्ट्रेट सुनील अहिरवार एवं विवाह न्यायाधीश भाग 2 मीता पवार की कोर्ट में बलराम पिता छगन  गोंड निवासी साई मंदिर के पास कन्नौद उसकी पत्नी नीमा बाई पति बलराम रोड निवासी आष्टा रोड हाल मुकाम बरवई थाना कन्नौद दोनों पति-पत्नी एक दूसरे से दिनांक 3-4-2018 से अलग अलग रह रहे थे और दोनों ने भरण पोषण एवं दांपत्य जीवन की पुनस्थापना स्थापना का प्रकरण न्यायालय में लगा रखा था और तभी से प्रकरण न्यायालय में विचाराधीन थे लेकिन न्यायाधीशगण एवं उनके एडवोकेट सादिक खान और राजेश व्यास द्वारा दोनों पक्षों का आपसी सुलह समझौता के माध्यम से निराकरण करते हुए दोनों पक्षो को ना कोई जीता न कोई हारा यही लोग अदालत का नारा के माध्यम से पति-पत्नी ने एक दूसरे को माला पहनाई और मिठाई खिलाते हुए पति पत्नी राजी खुशी अपने अपने घर की चल दिए। एडवोकेट शैलेंद्र पांचाल ने बताया कि शनिवार   को नेशनल लोक अदालत में चार खंडपीठों का गठन किया गया था  जिसमें तहसील विधिक सेवा प्राधिकरण के पदेन अध्यक्ष एवं अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश सुश्री नीता गुप्ता की कोर्ट में कुल 25 प्रकरण निपटे जिसमें  एमपीईबी के 07 प्रकरण में लगभग 1,15,114  एवं मोटर दुर्घटना दावा क्लेम के 16 प्रकरण में 20,95,000 की वसूली हुई । बजावरी में एक ,  क्रिमिनल अपीलीय 01में 12,410  , प्रकरणों का निराकरण हुआ  । वही प्रथम श्रेणी न्यायिक मजिस्ट्रेट श्री सुनील अहिरवार की कोर्ट में कुल 28 प्रकरण निपटे जिसमे क्रिमिनल के 03 ,सिविल बी सूट  के 13 में 225981 रु. साथ ही   बैंक, जलकर ,संपत्ति कर, दूरसंचार  के प्रीलिटिगेशन के 09 प्रकरणों  में 104280  का निराकरण भी हुआ । एवं 138  चेक बाउंस में 03 जिसमे 750000 की वसूली हुई। इसी प्रकार  व्यवहार न्यायधीश वर्ग दो श्री जीतेन्द्र मेहर की कोर्ट में कुल 12 प्रकरणों का निराकरण हुआ । जिसमे  क्रिमिनल के 2  , 138 चेक बाउंस के चार जिसमे 817392  रु. सिविल बी सूट के छ: जिसमें 444160 की वसूली हुई। वही  व्यवहार न्यायाधीश वर्ग दो सुश्री मीता पंवार की कोर्ट में कुल 26 प्रकरण निपटें जिसमें 138 चेक बाउंस के 3 में 345000 रूपये, बजावरी में एक जिसमें 2325113 रु , सिविल बी सूट में 4 जिसमें 96243,  ए सूट में 2,   125 मेंटेनेंस के 16 में 3,10,000 प्रकरणों निराकरण हुआ ।   एमपीईबी विभाग के अधिवक्ता राजेश व्यास ,बैंक के अधिवक्ता भरत शर्मा एवं अरुण जाट रूपेश यादव संतोष जायसवाल एन पी शर्मा  दाऊद खान दस्तगीर खान  का प्रकरण के निराकरण में विशेष सहयोग रहा ।  हालांकि कुछ प्रकरणो में छूट नहीं मिलने के कारण पक्षकारों को उल्टे पैर वापस लौटना पड़ा। इस अवसर पर चारो खंडपीठ के न्यायाधीशगण,अभिभाषकगण, कर्मचारीगण , पुलिस, वनविभाग  एवं पक्षकारगण विशेष रुप से उपस्थित थे ।उक्त जानकारी एडवोकेट शैलेंद्र पांचाल ने दी।