चम्बल की माटी के सच्चे रत्न हैं हमारे मुन्ना भईया

0
111

चम्बल की माटी के सच्चे रत्न हैं हमारे मुन्ना भईया चम्बल की महान धरा पोरसा विकास खण्ड के ग्राम ओरेठी में साधारण किसान मुंशीसिंह तोमर के पुत्र के रुप में 12 जून सन् 1957 जन्मे नरेन्द्र सिंह तोमर उर्फ मुन्ना भईया बेहद हंसमुख मजबूत रणनीतिकार, संगठनात्मक क्षमता और कुशल प्रशासक पकड़ के रुप में जाने जाते हैं! केन्द्रीय काबीना मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ठीक भारतीय जनता पार्टी के चुनाव चिण्ह “कमल का फूल” हैं जिन्होने बिना किसी संसाधन और धनबल के भारतीय राजनीति क्षीतिज पर अपनी पहचान के साथ-साथ अभिशप्त चम्बल की नई तश्वीर देश और दुनिया के सामने बनाई। अपने प्रारम्भिक जीवन से ही राष्ट्रीय स्यंम सेवक संघ के ध्वज तले संघ की भावनाओं और जनसेवा को अपना मूल उद्देश्य बनाने वाले आज भी अपनों के लिए मुन्ना भईया हैं जिन्हें अपने बहुत ऊपर होने का कतई घमंड नहीं है। मगर भारत सरकार में वरिष्ठ मंत्री और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सबसे पसंदीदा मंत्री होने पर चम्बल की माटी को गर्व है! अपने छात्र जीवन से आम जनता के सुख-दुख में सदैव शामिल होने वाले मुन्ना भईया को उनकी सच्ची जनसेवा को देखते हुये सन् 1977 में युवा मोर्चा का मंडल अध्यक्ष बनाया गया जिस पर 100 फीसदी खरे उतरे! संगठन के प्रति उनकी सच्ची निष्ठा को देखते हुये पार्टी ने उन्हें सन् 1983 में ग्वालियर नगर निगम में पार्षद का टिकट दिया, चुनाव जीतकर वे सन् 1983 से 1987 तक पार्षद रहे! मगर उनकी कुशल संगठनात्मक क्षमताओं को देखते हुए सन् 1996 में मध्यप्रदेश भारतीय जनता युवा मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया!उनके नेतृत्व में भारतीय जनता युवा मोर्चा ने प्रदेश में पार्टी को क्ई क्षेत्रों में स्थापित कर गजब का विस्तार किया। उनकी गजब की क्षमताओं को देखते हुए पहली मर्तबा भाजपा ने उन्हें सन् 1998 में ग्वालियर विधानसभा चुनाव में मैदान में उतारा जिसे फतह कर उन्होने विधानसभा में प्रवेश किया। अपनी अद्भूत भाषड़ शैली के माध्यम से जनता की आवाज को सलीके से सदन में रखने के उनके अंदाज से विरोधी भी प्रभावित हुये और यही कारण है कि विपक्षियों में भी नरेन्द्र सिंह तोमर का नाम एक आदर और सम्मान के साथ लिया जाता है। पुनः2003 में ग्वालियर से जीतकर वे सुश्री उमा भारती के मंत्रीमंडल में काबीना मंत्री बने!और ये सिलसिला बाबूलाल गौर और वर्तमान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के मंत्री मंडल में भी चला। 2008 में मंत्री मंडल में उनके बेहतरीन कार्यों के कारण तत्कालीन लोकसभा अध्यक्ष सोमनाथ चटर्जी ने उन्हें “उत्कृष्ट मंत्री” का सम्मान से सम्मानित किया!मगर 2008 में पार्टी ने उनकी अभूतपूर्व क्षमताओं का भरपूर लाभ लेने के लिए 2008 में प्रदेश भाजपा की कमान सौंप दी और 15 जनवरी 2009 में मध्यप्रदेश से राज्यसभा सांसद चुनवाकर संसद में भेजा! मगर जनता के बीच हरदम रहने अपने मुन्ना भईया को उच्च सदन पंसद नहीं आया और मात्र चार महिने के बाद ही मई 2009 में वे जनता के बीच अपनी मातृभूमि मुरैना-श्योपुर संसदीय क्षेत्र से लोकसभा का चुनाव लड़कर व जीतकर पहली मर्तबा लोकसभा में पहुंचे!इसी बीच सन् 2012 में पुनः प्रदेश भाजपा का अध्यक्ष घोषित किया गया यहां यह भी उल्लेखनीय है कि सन् 2008 और 2013 में उनके ही नेतृत्व में औंधे नरेंद्र-शिवराज की जोड़ी ने विधानसभा चुनाव में बेहतरीन जीत दर्ज की थी! 2014 के आम चुनाव में उन्होने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और पार्टी प्रमुख अमित शाह के नेतृत्व में ग्वालियर लोकसभा क्षेत्र से जीत दर्ज कर मोदी की सरकार में 26 मई को मंत्री पद ग्रहण किया जो आजतक सफलता के साथ कायम है! ये नरेंद्र सिंह की क्षमता का ही परिणाम है कि इसी वर्ष होने प्रदेश विधानसभा चुनाव में उन्हें प्रदेश चुनाव समिति का अध्यक्ष बनाया गया है! ऐसे में हम कह सकते हैं कि “नरेन्द्र सिंह तोमर और चम्बल की धरा के मुन्ना भईया चम्बल की माटी के सच्चे रत्न हैं”उनके जन्मदिन पर हार्दिक हार्दिक शुभकामनाएं ।