देवास जिले में यात्रा के तीसरे दिन भी श्रद्धा, उत्साह का वातावरण

0
187
शिवराजसिंह का भागीरथी प्रयास है नर्मदा सेवा यात्रा- मंत्री सूर्यप्रकाश मीणा

देवास। नमामि देवि नर्मदे नर्मदा सेवा यात्रा के तीसरे दिन भी देवास जिले में श्रद्धा और उत्साह का अभूतपूर्व वातावरण बना रहा। मंत्री श्री सूर्य प्रकाश मीणा, विधायक खातेगांव आशीष शर्मा एवं हजारों की संख्या में नर-नारियों ने यात्रा में भाग लिया। ग्राम कोटखेड़ी में आयोजित जनसंवाद में मंत्री श्री मीणा ने कहा कि नर्मदा सेवा यात्रा नदी संरक्षण की दिशा में मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान का भागीरथी प्रयास है। उन्होंने कहा कि देवास जिले में यात्रा में व्यापक जन सहभागिता देखकर वे अभिभूत है।

त्वदीय पाद पंकजम् के मंत्रों के साथ तीसरे दिन यात्रा प्रारंभ

“त्वदीय पाद पंकजम् नमामि देवि नर्मदे” नर्मदा सेवा यात्रा जिले के फतेहगढ़ घाट पर रात्रि विश्राम के बाद तीसरे दिन नर्मदे हर के जयघोष के साथ आगे बढ़ी। ग्राम फतेहगढ़ में प्रात:कालीन पूजन एवं आरती के बाद अन्य ग्रामों के लिए रवाना हुई। यात्रा मार्ग में जगह-जगह पर स्वागत किया गया। इस अवसर पर विधायक चंपालाल देवड़ा, नर्मदा सेवा यात्रा के प्रभारी प्रदीप पांडे, जिले में यात्रा के प्रभारी एवं मध्यप्रदेश पाठ्य पुस्तक निगम अध्यक्ष रायसिंह सेंधव, जन अभियान परिषद जिला उपाध्यक्ष राजेश यादव, मध्यप्रदेश असंगठित कामगार बोर्ड अध्यक्ष (मंत्री दर्जा प्राप्त) सुल्तानसिंह शेखावत, कलेक्टर आशुतोष अवस्थी, अन्य जनप्रतिनिधि, सभी जिला अधिकारी एवं जनसमूह शामिल थे।

देश के इतिहास में पहली ऐसी यात्रा

नमामि देवि नर्मदे नर्मदा सेवा यात्रा में आज शुक्रवार को खातेगांव विकासखंड के ग्राम मेलपीपल्या में जनसंवाद का कार्यक्रम हुआ। कार्यक्रम में जनसमूह को संबोधित करते हुए खातेगांव विधायक आशीष शर्मा ने कहा कि देश के इतिहास में नर्मदा सेवा यात्रा पहली ऐसी यात्रा है, जिसमें नदी को स्वच्छ बनाने के लिए एक अभियान प्रारंभ किया है। हमारा सौभाग्य है कि नर्मदा नदी हमारे क्षेत्र से होकर गुजरी है। इसके संरक्षण के लिए हमें संकल्प लेना होगा।

नदी में गंदगी न करें

विधायक श्री शर्मा ने जनसंवाद को संबोधित करते हुए कहा कि हम सब मन में ये संकल्प ले की नदी में प्लास्टिक नहीं फेंकेंगे और ना ही खुले में एवं नदी किनारे शौच करेंगे। कार्यक्रम में मप्र असंगठित कामगार बोर्ड अध्यक्ष (मंत्री दर्जा प्राप्त) ने संबोधित किया। साथ ही उपस्थित जनसमूह को नर्मदा नदी संरक्षण, स्वच्छता की शपथ भी दिलाई गई। इस अवसर पर जनपद अध्यक्ष गुलाब बाई टाडा सहित विशाल संख्या में जनसमूह उपस्थित था।

हिन्दू-मुस्लिम एकता की मिसाल पेश की

ग्राम दुदवास में नर्मदा सेवा यात्रा के आगमन पर हिन्दू-मुस्लिम एकता की मिसाल देखने को मिली। ग्राम में हिन्दू समाज सहित मुस्लिम समाज की महिलाओं एवं प्रतिनिधियों ने नर्मदा सेवा यात्रा का पुष्पा वर्षा कर स्वागत किया।

भूतों की टोली रही आकर्षण का केंद्र

नमामि देवि नर्मदे देवि यात्रा की अगवानी पर ग्राम मेलपीपल्या में शिवपुत्री नर्मदा की झांकी बनाई गई थी। छोटे-छोटे बच्चे भगवान शंकर और भूतों की टोली के रूप में सज धजकर शामिल हुए। उनका यह रूप देखता ही बनता था।

इन ग्रामों से निकली यात्रा

नमामि देवि नर्मदे नर्मदा सेवा यात्रा ग्राम फतेहगढ़ घाट से प्रात:कालीन पूजा अर्चना एवं आरती के साथ प्रारंभ हुई। यात्रा ने कन्नौद विकासखंड से खातेगांव विकासखंड में प्रवेश किया। इस दौरान यात्रा का कलश, ढोल-ढमाके, बैंड के साथ यात्रा स्वागत कर आगवानी की। फतेहगढ़ घाट से टिपरास, भंडारिया, पीपलकोटा, दुदवास, मेलपीपल्या, मिर्जापुर, तमखान, सिराल्यारेवातीर, कणाबुजुर्ग, राजौर एवं दावठा पहुंची।

रात्रि में हुए सांस्कृतिक कार्यक्रम

नर्मदा सेवा यात्रा के ग्राम फतेहगढ़ घाट में रात्रि विश्राम के दौरान देर शाम को सांस्कृतिक कार्यक्‌रम आयोजित किए गए। सांस्कृतिक  कार्यक्रमों में शासकीय कन्या हाई सेकेंड्री स्कूल की बालिकाओं ने आकर्षक नृत्य की प्रस्तुति दी। इसके अलावा विभिन्न्‍ भजन मंडलियों में मधुर-मधुर भजनों की प्रस्तुति दी।

झलकियां

  • ग्राम दुदवास में मुस्लिम समाज के कलाकारों द्वारा शहनाई बजाकर यात्रा की आगवानी की गई।
  • अतिथियों द्वारा यात्रा मार्ग के ग्रामों में त्रिवेणी एवं अन्य फलदार एवं फूलदार पौधों का रोपण किया।
  • नर्मदा नदी के स्वच्छ बनाने संबंधी नारे लेक बच्चें तख्तियां हाथ में लेकर खड़े रहे जो कि आकर्षण का केंद्र रही।
  • रवलास में युवतियों ने यात्रा में नृत्य कर यात्रा की आगवानी की। गांव को एक छोर से दूसरे छोत तक आकर्षक्‍ ढंग से सजाया गया था।
  • रवलास ग्राम की सजावट देखकर मंत्री श्री सूर्यप्रकाश मीणा भी खूब प्रभावित हुए और उन्होंने ग्राम वासियों की सराहना की।
  • गत रात्रि यात्रा जब ग्राम बाईजगवाड़ा पहुंची तो वहां पर दीपावली जैसी जगमग थी। हर घर के सामने रांगोली बनाकर दीये जलाए गए थे।

तिलक बाबा लगा रहे हैं प्रतिदिन हजारों तिलक

नमामि देवि नर्मदे नर्मदा सेवा यात्रा में तिलक बाबा के नाम से प्रसिद्ध कमल गिरी महाराज आकर्षक का केंद्र बन रहे हैं। कमल गिरी महाराज सातमातरा मंदिर महेश्वर के पुजारी है। वे नर्मदा सेवा यात्रा में शामिल होकर प्रतिदिन हजारों लोगों को तिलक लगा रहे हैं।

बाबा कमल गिरी ने बताया कि वे धामनोद महेश्वर से नर्मदा सेवा यात्रा में शामिल हुए हैं। उन्होंने बताया कि यात्रा जब उनके क्षेत्र में आई तो उन्होंने संकल्प लिया कि वे इस यात्रा में जाएंगे और अपनी स्कूटर एमपी 09 जे 0263 उठाई और सेवा यात्रा में शामिल हो गए। कमल गिरी ने बताया कि वे श्रद्धालुओं में अपने पैसे से तिलक लगाते है तथा गाड़ी में पेट्रोल भी अपने पैसे से भरवाते हैं। यात्रा के पड़ाव स्थल में उनके पास भीड़ लगी रहती है।