प्रदेश में किसानों के 30 हजार बेटा-बेटियों को कृषक उद्यमी योजना में लाभ दिलाया जाएगा- मुख्यमंत्री

0
101
प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में देवास जिले के ऐतिहासिक एक लाख 5 हजार से अधिक किसानों को मिला 552 करोड़ रुपए का लाभ
 देवास। मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश के इतिहास में पहले कभी नहीं हुआ वह अब हो रहा है। अकेले देवास जिले के एक लाख 5 हजार 886 किसानों को 552 करोड़ से अधिक का लाभ मिलने वाला है। उन्होंने कहा कि केवल एक साल में विभिन्न योजनाओं के माध्यम से देवास जिले के किसानों को 1276 करोड़ रुपए का लाभ दिया गया है, वहीं प्रदेश भर में एक साल में लगभग 35 हजार करोड़ रुपए किसानों के खातों में विभिन्न योजनाओं में डाले गए हैं।
मुख्यमंत्री श्री चौहान रविवार को देवास जिले में ‘‘प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना खरीफ 2017’’ अंतर्गत फसल बीमा दावों के भुगतान के प्रमाण पत्र वितरण हेतु आयोजित ‘‘किसान महासम्मेलन’’ में किसानों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि खेती को लाभ का धंधा बनाने के लिए हर संभव प्रयास किया है तथा किसानों के हित में अनेकों योजनाएं बनाई है। देवास जिले में भावांतर भुगतान योजना के अंतर्गत 56 हजार 274 किसानों को 55 करोड़ रुपए का लाभ दिया गया है। चना, मसूर, सरसों की समर्थन मूल्य की खरीदी पर 113 करोड़ रुपए का लाभ दिया गया है, वहीं पिछले साल समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीदी पर 200 रुपए प्रति क्विंटल तथा चालू साल में 265 रुपए प्रति क्विंटल का लाभ किसानों को दिया गया है। देवास जिले के किसानों को कृषि पंपों पर अनुदान राशि 397 करोड़ रुपए, सुखा राहत राशि  के रूपए 30 करोड़, शून्य प्रतिशत ब्याज पर लाभ 24 करोड़ रुपए, कृषि एवं उद्यानिकी योजना के अनुदान के रूप में 25 करोड़ रुपए का लाभ एक साल में दिया गया है। उन्होंने कहा है कि किसानों को उनकी मेहनत के पसीने की पूरी कीमत दी जाएगी। केंद्र सरकार ने अभी अभी नए समर्थन मूल्य घोषित किए हैं तथा सभी फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य में काफी बढ़ोत्तरी की गई है।
मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा है कि नर्मदा के पानी को क्षिप्रा नदी में डालने का असंभव कार्य को संभव कर दिखाया है। आज नर्मदा मैया की कृपा से देवास को पीने के पानी की सहज उपलब्धता हो रही है। देवास, उज्जैन, शाजापुर, आगर जिलों में सिंचाई के लिए नर्मदा-कालीसिंध पार्ट-1 व पार्ट-2 तथा नर्मदा मालवा-गंभीर पार्ट-01 एवं पार्ट-02 तथा नर्मदा मालवा-क्षिप्रा पार्ट-2 लिंक परियोजनाओं से सिंचाई की योजना तैयार की गई है। इन योजना में विभिन्न चरणों में कुल 14 लाख 20 हजार एकड़ में सिंचाई की सुविधा उपलब्ध हो सकेगी। उन्होंने कहा कि सिंचाई की व्यवस्था होने से अगले पांच साल में इन जिलों में फसलों का पूरा पैटर्न ही बदल जाएगा।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि किसानों की फसलों को लाभकारी मूल्य दिलाने के लिए उत्पादों के विदेशों में निर्यात के भी प्रयास किए जा रहे हैं। इस हेतु प्रदेश में ‘एक्सपोर्ट प्रमोशन बोर्ड’ बनाया गया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में फूड प्रोसेसिंग इकाईयों की स्थापना के लिए भी बढ़ावा देने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। किसानों के बेटों को 10 लाख से लेकर 2 करोड़ रुपए तक ऋण उपलब्ध कराने की योजना लागू की गई है। इस साल किसानों के 30 हजार बेटा-बेटियों को उक्त योजना में ऋण दिलाने  की व्यवस्था कर रहे है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने असंगठित श्रमिकों व गरीबों के लिए लागू की गई मुख्यमंत्री जनकल्याण (संबल) योजना में मिलने वाले लाभों की जानकारी देते हुए कहा कि सभी गरीबों को पट्टा देकर जमीन का मालिक बनाया जाएगा। अगले चार साल में हर गरीब के पास अपना पक्का मकान होगा। गरीब मजदूर बेटा-बेटियों  के प्रवेश इंजीनियरिंग, मेडिकल, लॉ कॉलेज आदि में होने पर उनके बच्चों की फीस सरकार द्वारा भरी जाएगी। उन्होंने कहा कि मजदूर बहनों के लिए प्रसूती योजना लागू की गई है, जिसके तहत बच्चा कोख में आने पर 4 हजार रुपए तथा जन्म देने के बाद 12 हजार रुपए की राशि दी जाएगी। संबल योजना के तहत बिजली बिल माफी योजना में सभी गरीबों और मजदूरों के  बिल माफ करने के लिए कैम्प लगाए जा रहे हैं और आगे से 200 रुपए महीना बिजली के बिल फ्लेट रेट से दिए जाएंगे। श्रमिक की सामान्य मृत्यु पर दो लाख रुपए, दुर्घटना में मृत्यु होने पर 4 लाख रुपए तथा अंतिम संस्कार के लिए 5 हजार रुपए की तत्काल सहायता मिलेगी।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मासूम बेटियों के साथ अगर कोई दुराचार करेगा तो उसे फांसी की सजा देने का प्रावधान किया गया है। सागर में एक बच्ची के साथ हुई दुराचार की घटना में आरोपी को फांसी की सजा हो गई है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने उपस्थित जनसैलाब को बेटी बचाने, बेटियों का मान-सम्मान करने, पानी बचाने, नया मध्यप्रदेश बनाने, खेती को लाभ का धंधा बनाने का संकल्प लेने तथा सभी से सहयोग का आह्वान किया।
कार्यक्रम में सांसद खंडवा श्री नंदकुमार चौहान ने इस अवसर पर अपने संबोधन में कहा कि मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान के नेतृत्व में प्रदेश में विकास की एक नई गाथा लिखी गई है। मुख्यमंत्री के रूप में उनका कार्यकाल प्रदेश के इतिहास में स्वर्णिम अक्षरों में लिखा जाएगा। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री चौहान जब भी देवास आए हैं, जिले को विकास की बहुत बड़ी सौगातें प्रदान की है। आज भी मुख्यमंत्री श्री चौहान देवास जिले के एक लाख से अधिक किसानों को 552 करोड़ रुपए का लाभ प्रदान कर रहे हैं। कार्यक्रम में सांसद श्री मनोहर ऊंटवाल तथा विधायक देवास श्रीमती गायत्रीराजे पवार ने भी अपने विचार रखें। वहीं कार्यक्रम के प्रारंभ में तकनीकी कौशल विकास (स्वतंत्र प्रभार) स्कूल शिक्षा राज्यमंत्री श्री दीपक जोशी ने भी उपस्थित जनसमूह को संबोधित किया।
कार्यक्रम के प्रारंभ में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रधानमंत्री ग्राम सडक़ योजना अंतर्गत 34 करोड़ 81 लाख रुपए की 3 सडक़ों का भूमि पूजन भी किया। भूमि पूजन उपरांत मुख्यमंत्री जी ने कन्या पूजन किया। कार्यक्रम के अंत में मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने देवास जिले के लगभग एक लाख 6 हजार किसानों को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना अंतर्गत खरीफ 2017 की 552 करोड़ रुपए से अधिक की दावा राशि के भुगतान/ प्रमाण पत्र वितरण कार्य की शुरूआत की तथा प्रतीक स्वरूप हितग्राहियों को बीमा दावा राशि के प्रमाण पत्र भी वितरित किए। इस अवसर पर प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना अंतर्गत 2105 हितग्राहियों को 25 करोड़ 26 लाख के स्वीकृति पत्रों का वितरण भी किया जाकर लाभांवित किया गया। इसके अलावा मुख्यमंत्री बिजली माफी योजना के पांच हितग्राहियों तथा प्रधानमंत्री उज्जवला योजना में दो महिलाओं को प्रतीक स्वरूप गैस कनेक्शन के प्रमाण पत्र भी प्रदान किए गए।
कार्यक्रम में संस्कृति एवं पर्यटन राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार तथा जिले के प्रभारी मंत्री श्री सुरेंद्र पटवा, तकनीकी कौशल विकास (स्वतंत्र प्रभार) स्कूल शिक्षा राज्यमंत्री श्री दीपक जोशी, सांसद खंडवा नंदकुमार सिंह चौहान, सांसद श्री मनोहर ऊंटवाल, विधायक देवास श्रीमती गायत्रीराजे पवार, विधायक खातेगांव श्री आशीष शर्मा, विधायक सोनकच्छ श्री राजेंद्र वर्मा, जिला पंचायत अध्यक्ष श्री नरेंद्रसिंह राजपूत, महापौर श्री सुभाष शर्मा, मप्र पाठ्य पुस्तक निगम अध्यक्ष श्री रायसिंह सेंधव, मप्र खादी ग्रामोद्योग बोर्ड अध्यक्ष श्री सुरेश आर्य, श्री गोपीकृष्ण व्यास सहित अन्य जनप्रतिनिधियों के अलावा संभागायुक्त श्री एमबी ओझा, पुलिस महानिरीक्षक श्री राकेश श्रीवास्तव, पुलिस उप महानिरीक्षक श्री रमनसिंह सिकरवार, कलेक्टर डॉ. श्रीकांत पांडेय, पुलिस अधीक्षक श्री अंशुमानसिंह भी उपस्थित थे।