भजन सम्राट अनूप जलोटा ने बहाई भक्तिरस धारा

0
282

 

ग्वालियर ।  देश और दुनिया में सुविख्यात भजन गायक पद्मश्री अनूप जलोटा ने अपनी जादुई आवाज़ में भजन सुनाकर सुधीय रसिकों को भक्ति संगीत में सराबोर कर दिया। भक्तिरस में पगे रसों में डूबकर रसिक देर रात झूमते रहे। मौका था तानसेन समारोह की पूर्व संध्या पर गुरुवार की देर शाम हजीरा चौराहे पर आयोजित हुए पूर्वरंग “गमक” का। यह कार्यक्रम उच्च शिक्षा एवं लोकसेवा प्रबंधन मंत्री जयभान सिंह पवैया के मुख्य आतिथ्य में आयोजित हुआ। पवैया की पहल पर ही पिछले साल से उप शास्त्रीय संगीत का कार्यक्रम “गमक”  शुरू हुआ है।
हल्के-हल्के सर्द मौसम में जब भजन सम्राट अनूप जलोटा ने प्रसिद्ध भजन “ऐसी लागी लगन मीरा हो गई मगन” से अपनी भजन गायकी की शुरुआत की तो सम्पूर्ण वातावरण में भक्ति की गरमाहट दौड़ गई। इसके बाद उन्होंने “कौन कहता है भगवान आते नहीं” ,  ” श्याम तेरी बंसी पुकारे राधा नाम” और “मेरे मन में राम मेरे तन में राम” सुनाकर रसिकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। बीच-बीच में अपने साथी संगतकारों के साथ हँसी-ठिठोली कर श्रोताओं को खूब गुदगुदाया। इसी कड़ी में “कभी-कभी भगवान को भी भक्तों से काम पड़े” और “इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकलें” गाकर भजन गायिकी को नया मोड़ दिया। उन्होंने राग देश में जब निबद्ध कबीर का भजन “चदरिया झीनी रे झीनी” सुनाया तो श्रोता झूम उठे। इस भक्तिमय शाम को रसिक शायद ही कभी भुला पायेंगे।
आरंभ में अतिथियों ने दीप प्रज्ज्वलित कर गमक का शुभारंभ किया। इस अवसर पर कलेक्टर राहुल जैन व पुलिस अधीक्षक डॉ आशीष मंचासीन थे। उस्ताद अलाउद्दीन खां संगीत एवं कला अकादमी के निदेशक पी के झा ने पुष्पहारों से अतिथियों एवं भजन सम्राट श्री जलोटा का स्वागत किया। कार्यक्रम का संचालन भोपाल से आये संस्कृति कर्मी विनय उपाध्याय ने किया।
जलोटा के भजन गायन में अरशद खान ने तबला, अजय मिश्रा ने गिटार, राशिद खान ने वायोलिन व अनुरोध जैन ने साइड रिदम की संगत की। अनुजा सहाय ने सह गायिकी की भूमिका निभाई।

 

किलागेट से नृत्य करते हुए पहुँचे लोक कलाकार
शहरवासियों को तानसेन समारोह का न्यौता देने निकले लोक कलाकारों ने भी अपने नृत्य से लोकधारा बहाई। झाबुआ से आये आदिवासी लोक कलाकारों के दल ऐतिहासिक किलागेट से नृत्य करते हुए पूर्वरंग “गमक” कार्यक्रम स्थल हजीरा चौराहे पहुँचे। तानसेन समारोह के मद्देनजर समारोह स्थल के आसपास की गई रंगीन रोशनी ने माहौल को और भी मनमोहक बना दिया।

 

गमक से तानसेन समारोह और लोकप्रिय हुआ है – पवैया
उच्च शिक्षा मंत्री जयभान सिंह पवैया ने कहा कि आम जनता को तानसेन समारोह से जोड़ने के उद्देश्य से “गमक” कार्यक्रम शुरू किया गया है। उन्होंने कहा हम सबके  सौभाग्य की बात है कि लाखों-लाख घरों में जिनके भजन सुने जाते हैं, ऐसे भजन सम्राट को प्रत्यक्ष सुनने का मौका मिला है। पवैया ने संपूर्ण शहरवासियों की ओर से अनूप जलोटा का अभिनंदन किया।