भामसं मध्यप्रदेश के प्रांतीय अध्यक्ष ने ली देवास में कार्यकर्ताओं की बैठक 

0
54
देवास। भारतीय मजदूर संघ मध्यप्रदेश के प्रांतीय अध्यक्ष श्री सावले जी देवास में भारतीय मजदूर संघ के कार्यकर्ताओं की बैठक ली। उपरोक्त जानकारी देते हुए भारतीय मजदूर संघ देवास के जिला प्रवक्ता कमल सिंह चौहान ने बताया कि 22 मई को भारतीय मजदूर मध्यप्रदेश के प्रांतीय अध्यक्ष श्री मधुकर सावले जी ने देवास प्रवास  पर भारतीय मजदूर संघ से संबद्ध विभिन्न उद्योगों में कार्यरत यूनियनों के पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं की  जिला कार्यालय में बैठक ली। बैठक में भारतीय मजदूर संघ मध्यप्रदेश के प्रांतीय मंत्री एल एन मारु, विभाग प्रमुख, अजय उपाध्याय, राज्य कर्मचारी संघ के प्रदेश अध्यक्ष विष्णु वर्मा, बिजली कर्मचारी महासंघ के संयुक्त महामंत्री सुशील कुमार पाण्डेय, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता एवं सहायिका महासंघ की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रंजना राणा, करेंसी एण्ड कॉईंस कर्मचारी महासंघ के राष्ट्रीय वरिष्ठ उपाध्यक्ष रमेश सिंह तंवर विशेष रुप से उपस्थित थे। अध्यक्षता जिला अध्यक्ष ओमप्रकाश रघुवंशी ने की। उल्लेखनीय है कि भारतीय मजदूर संघ मध्यप्रदेश के प्रांतीय अध्यक्ष मधुकर सावले जी संगठनात्मक दृष्टि से संपूर्ण मध्यप्रदेश का प्रवास कर रहे हैं। बैठक में भारी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे। सर्व प्रथम अतिथियों द्वारा भारत माता, भगवान विश्वकर्मा एवं श्रद्धेय दत्तोपंत जी ठेंगड़ी जी के चित्र पर माल्यार्पण कर दीप प्रज्जवलित किया। इसके पश्चात अतिथियों का पुष्पमालाओं से स्वागत किया गया। सर्व प्रथम संगठन गीत ओमप्रकाश यादव ने गाया। इस अवसर पर कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए श्री सावले ने भारतीय मजदूर संघ की रीति-नीति  एवं सिद्धांत के बारे में बताया एवं कहा कि इसी का परिणाम है कि भारतीय मजदूर संघ आज देश का ही नहीं अपितु पूरे विश्व का प्रथम क्रम का एक गैर राजनीतिक श्रम संगठन है। यह भारतीय मजदूर संघ के संस्थापक राष्ट्र ऋषि दूरदृष्टा श्रद्धेय दत्तोपंत जी ठेंगड़ी की दृष्टि का परिणाम है। ठेंगड़ी जी ने नारा दिया था कि देश के हित में करेंगे, काम काम के लेंगे पूरे दाम। वर्तमान परिदृश्य में हमारी मांगे पूरी हो, चाहे जो मजबूरी हो के नारे लगाने वाले श्रम संगठन भी भारतीय मजदूर संघ के उपरोक्त नारे को अंगीकार करने लगे हैं। इस अवसर पर श्री वर्मा एवं मारु ने भी कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। स्वागत भाषण श्री रघुवंशी ने दिया। कार्यक्रम का संचालन श्री उपाध्याय ने किया। कार्यक्रम को सफल बनाने में सर्व रामभानसिह, महेंद्र सिंह परिहार, महेंद्र सिंह राणा, मानिकराव साहू, शिव कुमार संघवी, लटोरीलाल पटेल, रईस शेख, कैलाश राय, जीवन सिंह मेहरा, गोरी शंकर चौबे, देवीसिंह कदम, रामचंद्र गौड़, ज्ञानसिंह, रमेश द्विवेदी, गणेश यादव, महेंद्र सिंह राणा, मेहरबान सिंह, केशरसिंह, विरेन्द्र मुजमेर, जगदीश चौधरी, जब्बार भाई, रुपराम मिश्रा, राजेन्द्र सिंह बैस, घनश्याम पंडित, ईश्वर सिंह बारोड़, अनिल सिंह बैस, हुकमसिंह सोलंकी, गोरी शंकर पटेल, देवकरण सोनेर, चन्द्र शेखर दबे, सूरज शर्मा, ओमप्रकाश यादव  आदि  का विशेष योगदान रहा।