मतदान केन्द्रों से 100 मीटर के दायरे में कोई साक्षात्कार नहीं लिया जा सकता 

0
29
देवास। विधानसभा निर्वाचन- 2018 को दृष्टिगत रखते हुए भारत निर्वाचन आयोग द्वारा मीडिया प्रतिनिधियों को निर्धारित शर्तों के अधीन प्राधिकार पत्र जारी किये गये हैं। प्राधिकार पत्र के धारक को पूरे समय रिटर्निंग अधिकारियों, सहायक रिटर्निंग अधिकारियों, पीठासीन अधिकारियों, मजिस्ट्रेटों, ड्यूटी पर तैनात पुलिस अधिकारियों के सभी निर्देशों का पालन करना होगा। मीडिया प्रतिनिधियों को यह सुनिश्चित करना होगा कि मतदान की गोपनीयता भंग नहीं हो। इसके लिए मतदान केन्द्र के अंदर किसी भी प्रकार की फोटो खींचने या वीडियो फिल्म बनाने को प्रतिबंधित किया गया है, इसकी सख्त मनाही रहेगी।
जारी प्राधिकार पत्र किसी भी स्थिति में हस्तांतरणीय नहीं है। इसका प्रयोग केवल उस व्यक्ति द्वारा ही किया जा सकेगा, जिसका नाम प्राधिकार पत्र पर दर्ज है। प्राधिकार पत्र के धारक की पहचान के बारे में पीठासीन अधिकारी अपनी संतुष्टि करेंगे। इसमें जिसका नाम दिया गया है उस व्यक्ति को छोडक़र अन्य के द्वारा इसका प्रयोग गंभीर अपराध है और इस कारण अपराधी उचित कानूनी कार्रवाई का भागी होगा।
प्राधिकार पत्र जिस व्यक्ति के लिए जारी किया गया है, उस व्यक्ति को सहज पहचान के लिए अपना पहचान पत्र और परिचय कार्ड साथ में रखना होगा, जो उन्हें उस संगठन द्वारा जारी किया गया है, जिसका वे प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। मतदान केन्द्र में प्रवेश करने वाले मीडिया प्रतिनिधियों से कहा गया है कि वे किसी दस्तावेज को हाथ नहीं लगायें और ना ही किसी व्यक्ति का साक्षात्कार लें और ना ही किसी भी प्रकार की अव्यवस्था फैलायें। मतदान केन्द्र के अंदर किसी भी प्रकार का विच्छृंखल व्यवहार लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 की धारा 131 (1) (ख) के अधीन दंडनीय अपराध है, जिसके लिए जुर्माने के साथ 3 माह तक की सजा या दोनों हो सकते हैं। मतदान के दिन गैर- प्रचार अभियान जोन अर्थात मतदान केन्द्रों से 100 मीटर के दायरे में कोई साक्षात्कार आदि नहीं लिया जा सकता।