राजस्थान :: कांग्रेस ने उप चुनावों की 3 सीटों पर जीत हासिल कर BJP का लिया सूपड़ा साफ

0
80

जयपुर। कांग्रेस ने गुरुवार को राजस्थान उप चुनावों की तीनों सीटों पर जीत हासिल कर भाजपा का सूपड़ा साफ कर दिया है।
कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी से अलवर एवं अजमेर लोकसभा और मांडलगढ़ विधानसभा सीटें छीन ली हैं।

अलवर लोकसभा उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी डॉक्टर करण सिंह ने भाजपा के डॉ जसवंत सिंह यादव को, अजमेर सीट पर कांग्रेस उम्मीदवार डॉ.रघु शर्मा ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी भाजपा के रामस्वरुप लांबा को और मांडलगढ़ विधानसभा सीट पर कांग्रेस के विवेक धाकड़ ने भाजपा के शक्ति सिह हाडा को हराया।

अलवर लोकसभा उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी डॉक्टर करण सिंह ने 1,96,496 वोटों से ऐतिहासिक जीत हासिल की। डॉक्टर करण सिंह ने 6,42,416 और डॉ जसवंत सिंह यादव ने 4,45,920 मत हासिल किए।

राजस्थान में भारतीय जनता पार्टी की सरकार होने के बावजूद अलवर लोकसभा लोकसभा उपचुनाव में कांग्रेस की जीत ने कई सवाल छोड़ दिए। स्थानीय मुद्दे इन चुनावों में सबसे ज्यादा हावी रहे जो कांग्रेस की जीत का कारण बने।

अलवर लोकसभा क्षेत्र में अलवर की 8 विधानसभा अलवर शहर, अलवर ग्रामीण, राजगढ़ -लक्ष्मणगढ़, किशनगढ़ बास, मुंडावर रामगढ़, बहरोड़, तिजारा विधानसभा आती हैं इन विधानसभाओं में सात विधायक भाजपा के थे जबकि एक विधायक राजपा का था।

उपचुनाव में भारतीय जनता पार्टी के विकास कार्यों की पोल खोल दी और हालात यह हुई कि भारतीय जनता पार्टी आठ विधानसभा क्षेत्रों में पूरी तरह चुनाव हार गई। भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी डॉ जसवंत सिंह ने किसी भी विधानसभा क्षेत्र में बढ़त नहीं ली।

अजमेर लोकसभा उपचुनाव में कांग्रेस उम्मीदवार डॉ.रघु शर्मा ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के रामस्वरुप लांबा को 84 हजार 414 मतों से पराजित कर विजय हासिल की।  डॉ. शर्मा को 6,11,514 तथा रामस्वरुप लांबा को 5,27,100 मत हासिल हुए। दोनों के बीच मतांतर 84,414 मतों का रहा।

जिला निर्वाचन अधिकारी एवं कलेक्टर गौरव गोयल ने कांग्रेस के डॉ.रघु शर्मा के निर्वाचन की आधिकारिक घोषणा करते हुए उन्हें शपथ दिलाकर निर्वाचन पत्र सौंपा। इसी के साथ अजमेर जिले को अपना 18वां निर्वाचित सांसद हासिल हो गया। यह उपचुनाव सांसद सांवरलाल जाट के निधन से 9 अगस्त , 2017 को खाली हुआ था। वर्ष 2009 में अजमेर से कांग्रेस के सचिन पायलट सांसद थे जो पिछले चुनाव में हार गए। इसके बाद भाजपा के सांवरलाल जाट सांसद बने तथा उनके निधन के कारण यह उपचुनाव कराया गया।

निर्वाचन विभाग के अनुसार मांडलगढ़ विधानसभा उपचुनाव में धाकड़ को 70146 मत मिले जबकि भाजपा के शक्ति सिह हाडा को 57170 तथा कांग्रेस के विद्रोही गोपाल मालवीय को 40 हजार से अधिक मत हासिल हुए है।

29 जनवरी को हुए उपचुनाव की मतगणना में शुरुआती दौर में भाजपा उम्मीदवार आगे था, लेकिन बाद में कांग्रेस उम्मीदवार ने बढ़त बना ली। भाजपा की कीर्ति कुमारी के निधन के कारण यह उपचुनाव कराया गया था। कांग्रेस ने भाजपा से यह सीट छीनी है।