रूस राष्ट्रपति से मिले पीएम मोदी :कहा – भारत-रूस संबंधों में कभी कोई उतार-चढ़ाव नहीं आया

0
96

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रूसी राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन ने वीरवार को आपसी हित के द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय विषयों पर तथा ऊर्जा और व्यापार संबंधों को मजबूत करने पर व्यापक बातचीत की. अपनी मुलाकात की शुरूआत में मोदी ने पुतिन से कहा कि वह प्रधानमंत्री के रूप में पुतिन के गृहनगर आकर खुश हैं.

पहली बार रूस में भारत-रूस शिखरवार्ता मॉस्को से बाहर सेंट पीटर्सबर्ग में हो रही है. मोदी ने भारत को शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की सदस्यता दिलाने में अहम भूमिका निभाने के लिए रूस के राष्ट्रपति का आभार व्यक्त किया. पुतिन ने कहा कि भारत एक सप्ताह में एससीओ का पूर्णरूपेण सदस्य बन जाएगा. मोदी ने पुतिन के साथ बातचीत में सुबह द्वितीय विश्व युद्ध के शहीदों के स्मारक के अपने दौरे का जिक्र किया.

पुतिन ने युद्ध स्मारक जाने के लिए मोदी का आभार जताया और कहा कि रूस की जनता के दिल में ऐसी जगहों के लिए खास महत्व है. दोनों पक्ष विज्ञान और प्रौद्योगिकी, रेलवे, सांस्कृतिक आदान-प्रदान समेत कई क्षेत्रों में और निजी पक्षों के बीच भी अन्य कारोबारी क्षेत्रों में 12 समझौतों पर दस्तखत कर सकते हैं. वे एक विजन डॉक्यूमेंट भी जारी करेंगे. वे कुडनकुलम में भारत के सबसे बड़े परमाणु ऊर्जा संयंत्र की अंतिम 2 इकाइयों के निर्माण के लिए करार भी कर सकते हैं.

रूस पहुंच कर मोदी ने किया ट्वीट

पीएम ने ट्वीट कर पीटरबर्ग पहुंचने की जानकारी दी. मोदी रूस की यात्रा के बाद फ्रांस जाएंगे. 2 और 3 जून को पीएम फ्रांस की राजधानी पेरिस में रहेंगे. इस दौरान वो फ्रांस के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति एमानुअल मैक्रों से आधिकारिक मुलाकात करेंगे.

वहीं स्पेन से विदा होने से पहले उन्होंने ट्वीट किया, मैं अपनी यात्रा के दौरान शानदार आतिथ्य के लिए स्पेन की सरकार और जनता का धन्यवाद देता हूं. इस यात्रा के दौरान कई महत्वपूर्ण विषयों पर बात हुई.