विश्व विकलांग दिवस पर दिव्यांग बच्चों की हुयी खेलकूद प्रतियोगिताएं

0
390

विधायक श्री रमेश मेंदोला व प्रभारी कलेक्टर
श्रीमती रूचिका चौहान ने किया प्रतियोगिताओं का शुभारंभ
———————-
18 संस्थाओं के 350 दिव्यांग बच्चों ने लिया खेलकूद में भाग
इन्दौर, 03 दिसम्बर 2017
विश्व विकलांग दिवस के अवसर पर समाज कल्याण परिसर परदेशीपुरा में आज 3 दिसम्बर को दिव्यांग बच्चों की खेलकूद प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। प्रतियोगिताओं का शुभारंभ विधायक श्री रमेश मेंदोला, प्रभारी कलेक्टर श्रीमती रूचिका चौहान, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्रीमती कीर्ति खुरासिया ने अस्थिबाधित बच्चों की ट्राइसाइकिल रेस को हरी झंडी दिखाकर प्रतियोगिता का शुभारंभ किया। इस अवसर पर अतिथियों द्वारा प्रतिभागियों को खेल भावना से प्रतियोगिता में भाग लेने की शपथ भी दिलाई गई। प्रतियोगिता में नि:शक्तता के लिये कार्य कर रही शासकीय/अशासकीय 18 संस्थाओं के 350 दिव्यांग बच्चे भाग ले रहे हैं।
इस अवसर पर प्रभारी कलेक्टर श्रीमती रूचिका चौहान ने खेल प्रतियोगिताओं में भाग ले रहे दिव्यांग बच्चों को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि वे अपने-आप को किसी भी मामले में कमतर न समझें। ईश्वर ने उन्हें डिसएबल नहीं बल्कि डिफरेंटली एबल बनाया है। जरूरत है तो बस अपने अंदर छिपी उस प्रतिभा को पहचानने की, जिस क्षेत्र में ईश्वर ने उन्हें ज्यादा सशक्त बनाया है, जैसे कि दृष्टिबाधित बच्चों में गायन की विशेष प्रतिभा देखी जाती है। उन्होंने बच्चों को हिम्मत न हारने और आगे बढ़ने की सीख दी।
प्रतियोगिता के शुभारंभ अवसर पर सभी 18 संस्थाओं के 350 दिव्यांग बच्चों ने मार्चपास्ट में भाग लिया। प्रतियोगिता में अस्थिबाधित, दृष्टिबाधित तथा मंदबुद्धि बच्चों के लिये अगल-अलग प्रतियोगिताएं आयोजित की गई। अस्थिबाधित बच्चों के लिये ट्राइसाइकिल प्रतियोगिता आयोजित की गई। दृष्टिबाधित बच्चों की घुंघरु दौड़ प्रतियोगिता आयोजित की गई। वहीं अस्थिबाधित, श्रवणबाधित तथा मानसिक रूप से अविकसित बच्चों के लिये गोला फेंक प्रतियोगिता हुई। दृष्टिबाधित, श्रवणबाधित व मंदबुद्धि बच्चों के लिये सामान्य दौड़ तथा अस्थिबाधित, श्रवणबाधित तथा मानसिक रूप से अविकसित बच्चों के लिये चित्रकला प्रतियोगिता कराई गई। सभी प्रतियोगिताओं में प्रथम, द्वितीय और तृतीय स्थान पर रहने वाले बच्चों को पुरस्कृत किया गया।