मुख्यमंत्री द्वारा सुल्तानगढ़ घटना का बचाव दल सम्मानित

0
106

राष्ट्रपति जीवनरक्षक पदक के लिये जांबाजों की होगी अनुशंसा

ग्वालियर । मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि जांबाज नागरिकों और सिपाहियों को राष्ट्रपति जीवनरक्षक पदक दिलवाने की अनुशंसा की जायेगी। दूसरों के लिये अपनी जान जोखिम में डालने वाले जांबाज ही समाज के असली हीरो होते हैं। मुख्यमंत्री आज अतिवर्षा से सुल्तानगढ़ में पानी में फँसे नागरिकों को बचाने वाले जांबाज नागरिकों और सिपाहियों को सम्मानित कर रहे थे। उन्होंने चार नागरिकों को पाँच-पाँच लाख रूपये की सम्मान निधि भेंट की। जिला पुलिस बल के चार और राज्य अनुक्रिया बल ग्वालियर के तीन सदस्यों को पृथक से सम्मानित करने के निर्देश दिये। इस अवसर पर पुलिस महानिदेशक ऋषि कुमार शुक्ला, महानिदेशक नागरिक सुरक्षा और आपदा प्रबंधन महान भारत सागर भी मौजूद थे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि अच्छे काम करने वालों की सराहना की जाना चाहिये। उन्होंने कहा विगत दिवस मोहना के निकट सुल्तानगढ़ में फँसे नागरिकों को बचाने के कार्य में स्थानीय नागरिकों, राज्य आपदा बल, पुलिस और प्रशासन ने प्रशंसनीय कार्य किया है। उन्होंने बताया कि घटना की जानकारी मिलने पर वे रातभर जागकर स्थिति की जानकारी लेते रहे। केन्द्रीय रक्षा मंत्री, गृह मंत्री से चर्चा की। बचाव के लिये भारतीय वायु सेना का हेलीकाप्टर आया, उसने पाँच लोगों को बचाया। किन्तु मौसम खराब हो जाने के कारण उसे वापस जाना पड़ा। ऐसे समय में जांबाज ग्रामीण साथी देवदूत बनकर सामने आये और जब थोड़ा पानी कम होने पर वे साहसपूर्वक तैरकर रस्सा पार ले गये। उनके साहस और सामाजिक कर्तव्य बोध को देख कर ही उनको सम्मानित करने का निर्णय उन्होंने किया है। उन्होंने बताया कि केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर और खेल एवं युवा कल्याण मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया भी पहुँचे थे।
मुख्यमंत्री ने नागरिक रामदास पुत्र सभाराम, भागीरथ पुत्र जलमा, निजाम शाह पुत्र शंभू शाह और कल्लन बाथम पुत्र रामजीलाल को पाँच-पाँच लाख रूपये की सम्मान निधि से सम्मानित किया। इसके साथ ही राज्य आपदा बल ग्वालियर के उपनिरीक्षक प्रदीप कुमार, प्रधान आरक्षक राजेश कुमार यादव और गजेन्द्र सिंह कौरव को तथा जिला पुलिस बल के उपनिरीक्षक गोपाल चौबे, उपनिरीक्षक सुरेन्द्र सिंह यादव, उपनिरीक्षक अमित शर्मा और आरक्षक मुकेश यादव को सम्मानित करते हुये कहा कि इन्हें भी पृथक से सम्मान निधि दी जायेगी।