रेड लाइट एरिया: असली मालिकों का पता लगाने के लिए दिए गए सम्मन

0
180

राजधानी के रेड लाइट एरिया जीबी रोड के कोठों के असली मालिकों का पता लगाने के लिए गुरुवार को जीबी रोड पर 125 सम्मन दिए गए…

नई दिल्ली। राजधानी के रेड लाइट एरिया जीबी रोड के कोठों के असली मालिकों का पता लगाने के लिए गुरुवार को जीबी रोड पर 125 सम्मन दिए गए। जिन कोठों की संचालिकाओं ने सम्मन लेने से मना किया उनकी दिवारों पर दिल्ली महिला आयोग ने सम्मन चिपका दिए। जिन 125 लोगों को सम्मन जारी किए हैं उन्हें 21 सितंबर से 25 सितंबर तक आयोग में पेश होने के निर्देश दिए गए हैं।

दिल्ली महिला आयोग के मुताबिक जीबी रोड मानव तस्करी का एक बड़ा अड्डा बना हुआ है। देश के दूर दराज और गरीब इलाकों से छोटी-छोटी बच्चियों की तस्करी करके उन्हें जीबी रोड पर लाकर बेच दिया जाता है और वहां 30-30 लोग इन बच्चियों का रोज शोषण करते हैं। इन कोठों के असली मालिकों का पता नहीं चल पाता है, जिससे कार्यवाही के दौरान सिर्फ कोठे के संचालक व संचालिका पकड़े जाते हैं। असली मालिक कानून के शिकंजे से छूट जाते हैं। असली मालिक न पकड़े जाने से जीबी रोड पर कोठे चल रहे हैं और बदस्तूर छोटी बच्चियों का शोषण जारी है। बच्चियों एवं महिलाओं के शोषण को रोकने के लिए दिल्ली महिला आयोग ने गुरुवार से जीबी रोड पर कोठों के असली मालिकों का पता लगाने के लिए यह मुहिम शुरु की।


आयोग ने पुलिस, बिजली विभाग, जल बोर्ड एवं एसडीएम सहित अन्य विभागों को नोटिस जारी कर कोठों के असली मालिकों का पता लगाने उनके नाम मांगे थे। जिस पर दिल्ली महिला आयोग को विभागों से कोठों के अलग अलग मालिकों के नाम मिले हैं जिसके आधार पर आयोग ने यह मुहिम शुरु की है। अब सब को आयेाग ने पहचान प्रमाण लेक करआने के निर्देश दिए हैं। आयोग की अध्यक्ष स्वाति जयहिंद ने कहा कि चाहे कुछ भी हो जाए आयोग कोठे के असली मालिकों तक पहुंच कर कोठे बंद करवाकर और महिलाओं का पुनर्वास करके रहेगी, यह पहला कदम है।