कड़ा कदम :: SEBI की व्हाट्सऐप और टेलीग्राम की प्राइवेट चैट ग्रुप्स पर नजर

0
107

नई दिल्ली: शेयर खरीदनें वालों को टिप्स की जरूरत होती है। कई लोग ये टिप्स व्हाट्स एप और प्राइवेट चैट ग्रुप्स पर भेजते हैं। शेयर मार्केट रेगुलेटर सेबी की अब ऐसे लोगों पर कड़ी निगाह है। सेबी ने अपनी व्हिसिल ब्लोअर भेदिया सूचना व्यवस्था को मजबूत करने और निवेशकों तथा बाजार की बिचौलिया इकाइयों में काम करने वाले लोगों को ऐसे लोगों का भेद बताने को प्रोत्साहित करने का कदम उठाया है जो व्हाट्सऐप और टेलीग्राम जैसे ऑनलाइन एप और प्राइवेट चैट ग्रुप्स आदि के जरिये निवेश के परामर्श और संवेदीनशील सूचनाओं का आदान प्रदान करते हैं।

बाजार को चढ़ाने उतारने में लगे ऐसे व्यक्ति और समूह इंटरनेट पर ऐसी साइटों का इस्तेमाल करते हैं जिनको गूगल जैसे सामान्यत: इस्तेमाल किये जाने वाले सर्च इंजनों के जरिये मुश्किल से पकड़ा जा सकता है।

सेबी ने एसएमएस, व्हाट्सऐप, ट्विटर और फेसबुक और अन्य सोशल नेटवर्क, खेल तथा प्रतिस्पर्धा आदि के जरिये निवेश की अनाधिकृत रूप से सलाह देने पर रोक के लिए एक परिचर्चा पत्र पिछले साल जारी किया था। लेकिन अभी उसने इस बारे में कोई पक्का नियम लागू नहीं किया है।

सूत्रों के मुताबिक सेबी, एनएसई और बीएसई कंपनियों के नतीजे व्हाट्स एप पर लीक होने की जांच कर रही है। सेबी ने दोनों एक्सचेंज से उन 24 कंपनियों के ट्रेड डेटा की जांच करने के लिए कहा है जिनके नतीजे वॉट्सएप और सोशल मीडिया पर लीक हो गए थे। इस सिलसिले में दोनों एक्सचेंज ने ऐसी कंपनियों से जानकारी मांगी है।

(एजेंसी इनुपट के साथ)