सुरिले कलाकारों ने सदाबहार गीतों से समा बांधे रखा

0
220

पवन मकवाना 9827360360

इन्दौर। संगीत के क्षेत्र में अपने साथ पुरे परिवार के द्वारा विशेष योगदान देने वाली स्वर कोकिला लता मंगेशकर, सदाबहार आशा भोसले और उनके भाई सृजनशील संगीतकार ह्रदयनाथ मंगेशकर को समर्पित शाम में कल जाल सभागृह में आयोजित कार्यक्रम मधुर मधुरम मंगेशकर में सुरिले गायकों ने एक से बढ़कर एक कई गीत प्रस्तुत किये।
शहर में संगीत की दावत दी जो और उसका मजा लेने के लिए संगीत प्रेमी न पहुंचे ऐसा हो ही नहीं सकता। फिर चाहे बरसता पानी हो या गरजता बादल संगीत के दिवाने हर बाधा को पार कर सदाबहार नगमों का आनंद लेने जरूर पहुंच जाते है। क्योंकि इन्दौरियों के लिए कहा जाता है कि यहां के लोग खाने के साथ ही गाने के भी चटोरे है। इसीलिए कल शाम जाल सभागृह में साहित्यक सांस्कृतिक संस्था इवेंट्स के द्वारा आयोजित की गई संगीत निशा में मोना शेवड़े ने लता मंगेशकर और आशा भोसले के कई सुपर-डुपर गीतों का श्रोताओं को रसपान कराया तो वह अपनी जगह से अंत तक उठ न सके। मगर शहर में मुकेश की आवाज से पहचाने जाने वाले विवेक वाघोलीकर को जब-जब मौका मिला वह महफिल लुटकर ले गये। उन्होंने जैसे ही मोना शेवड़े के साथ सावन का महीना पवन करें शोर गाया तो हाल करतल ध्वनि से भर उठा। कार्यक्रम में मोहम्मद रफी के गीतों को वैभव तिवारी ने अपने चिरपरिचित अंदाज में पेशकर संगीत प्रेमियों की खुब दाद बटोरी। कुल मिलाकर ऐसा लकर रहा था कि बरसते पानी में गीतों की तपिश मिल रही हो श्रोताओं को। इसमें गायकों का भरपुर साथ योगेश पाठक ने की-बोर्ड पर, गिटार पर नितेश शेट्टी, आक्टोपेड पर कपिल राठौर, ढोलक पर रवि खेड़े और तबले पर मनोज बोरलिया ने दिया।