कांग्रेस बसपा के अस्तित्व को खत्म करना चाहती है: मायावती

0
84

एमपी और छतीसगढ़ के विधानसभा चुनाव से पहले बीएसपी और अजीत जोगी के बीच हुए गठबंधन पर अब सियासत तेज हो गई है। एक ओर जहां मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कांग्रेस के साथ गठबंधन में शामिल ना होने के फैसले पर मायावती की आलोचना की है।

वहीं मायावती ने दिग्विजय के बयान के बहाने पूरी कांग्रेस पार्टी की मंशा पर सवाल खड़े किए हैं। मायावती ने कहा है कांग्रेस पार्टी बीजेपी को केंद्र की सत्ता से हटाने के लिए गंभीर नहीं है और वह बहुजन समाज पार्टी को खत्म करना चाहती है।

कांग्रेस से नाराज चल रहीं बसपा सुप्रीमो मायावती ने बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कांग्रेस पर जमकर हमला बोला और गठबंधन न होने के लिए दिग्विजय सिंह को जिम्मेदार ठहराया। बसपा प्रमुख मायावती ने कहा कि सोनिया गांधी और राहुल गठबंधन चाहते थे।

मगर दिग्विजय सिंह ने इस पर पानी फेर दिया। वे नहीं चाहते थे कि भाजपा को हराने के लिए हमारे बीच गठबंधन हो। मायावती ने कहा कि कांग्रेस बसपा के अस्तित्व को खत्म करना चाहती है।  कांग्रेस जातिवाद को बढ़ाने वाली पार्टी है।कांग्रेस पार्टी पर हमला करते हुए मायावती ने कहा कि कांग्रेस पार्टी गठबंधन की आड़ में बसपा को खत्म करना चाहती है। बसपा सुप्रीमो ने कहा कि कांग्रेस पार्टी की रस्सी जल गई, मगर बल नहीं गया। कांग्रेस ने गुजरात से कुछ सबक नहीं लिया।

मायावती ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और सोनिया गांधी दोनों आने वाले विधानसभा चुनावों और लोकसभा चुनावों में भाजपा को हराने के लिए बसपा के साथ गठबंधन चाहते थे।मगर यह दुख की बात है कि कांग्रेस पार्टी में दिग्विजय सिंह ने केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआई की डर से ऐसा नहीं होने दिया। वे किसी भी कीमत पर हमारे बीच में कोई चुनावी गठजोड़ नहीं चाहते। मायावती ने कहा कि दिग्विजय सिंह भी भाजपा के द्वारा भेजे गए एजेंट हैं।