निजी स्कूलों के गौरखधंधों के विरूद्ध जनसुनवाई में दिए ज्ञापन

0
260
जनसुनवाई में नही आने वाले अधिकारियों को कलेक्टर ने भी आइना दिखाया
देवास। कलेक्टर आशीष सिंह ने आज जनसुनवाई में सभी जिला अधिकारियों को स्वयं उपस्थित रहने के भी निर्देश दिए। उन्होंने जनसुनवाई में उपस्थित विभिन्न विभागों के निचले अमले के अधिकारियों को रवाना भी कर दिया। जनसुनवाई में कलेक्टर ने एक गरीब दंपत्ति के बीमार बच्चे के समुचित उपचार की व्यवस्था भी सुनिश्चित की।
निजी विद्यालयों द्वारा शोषण बर्दाश्त नहीं
जनसुनवाई में नगर के विभिन्न अभिभावकों ने बताया कि बालगढ़ स्थित प्राइवेट सेंटथॉमस स्कूल में लगभग 700 बच्चों को ट्रैक सूट लेने के लिए बाध्य किया जा रहा है। जबकि स्कूल में खेल का मैदान ही नहीं है। ट्रैक सूट की कीमत भी एक हजार रुपए रखी गई है। प्राप्त शिकायत पर कलेक्टर ने साफ कहा कि निजी विद्यालयों द्वारा अभिभावकों का शोषण बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।
जनसुनवाई में देवास के रहने वाले नरेंद्र सिंह राजपूत और उसकी पत्नी ने अपने छोटे से बच्चे के साथ आकर कलेक्टर को अपनी व्यथा बताई। दंपत्ति ने बताया कि उनका पुत्र जन्म से ही कई बीमारियों से ग्रस्त हैं। उसकी आंखें भी नहीं खुलती और हृदय में छेद है। कलेक्टर श्री सिंह सहृदयता पूर्वक मौके पर ही जिला चिकित्सालय के डॉक्टरों को बुलाया और बच्चे के समुचित इलाज के निर्देश दिए।
जिला मुख्यालय पर जनसुनवाई में मंगलवार को मल्हार स्मृति मंदिर में विभिन्न आवेदकों ने अपने आवेदन पत्र प्रस्तुत किए। कलेक्टर आशीष सिंह ने आवेदनों पर सुनवाई करते हुए निराकरण के निर्देश संबंधित विभाग के अधिकारियों को दिए। आवेदकों ने पुलिस विभाग से संबंधित आवेदनों को अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अनिल पाटीदार के समक्ष प्रस्तुत किए। जनसुनवाई में विभिन्न विभागों के जिला अधिकारी उपस्थित थे।
ये आवेदन भी आए
जनसुनवाई में अतिक्रमण हटवाने, श्रवण यंत्र दिलवाने, इलाज के लिए सहायता दिलवाने, विद्युत बिल की अधिकता, मीटर बदलवाने, बीपीएल सूची में नाम जोड़ने, पारिवारिक संपत्ती दिलाने, सीमांकन कराने, मकान में हिस्सा दिलाने, प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ दिलाने, रास्ते पर से अतिक्रमण हटाने सहित अन्य आवेदन में कलेक्टर ने सुनवाई की तथा संबंधित विभाग के अधिकारियों को जांच कर त्वरित निराकरण के निर्देश दिए।
शिक्षा अधिकारी की सागगाठ के कारण धंधेबाज स्कूलो ंके विरूद्ध नही होती कार्यवाही
पूर्व समय में जनसुनवाई में नगरवासियों द्वारा शिक्षा के नाम पर लूट खसौट करने वाले स्कूलों के विरूद्ध अनेकों बार शिकायते की गई कि शासन द्वारा बनाए गए नियम अनुसार स्कूलों का संचालन नही हो रहा है। निर्धारित क्षेत्रफल मंे स्कूल नही बने है। ना ही खेलों के मैदान है। उनके स्कूलांे मे शिक्षक भी टेªंड नही है। कमिशन खोरी के नाम पर दुकानों से पुस्तक खरीदने के लिए दुकाने तय कर दी गई है। ऐसे स्कूलो की हालत यह है कि बच्चों को स्कूल के अलावा ट्यूशन लगवाकर पढ़वाना पढ़ता है। ऐसे स्कूलों के निरीक्षण के नाम पर शिक्षा विभाग के  अधिकारियों द्वारा कोई कार्यवाही नही की जाती, बल्कि शासन के द्वारा बनाए गए नियमांे का मखोल उड़ाकर शासन को तो बदनाम किया ही जाता है। बच्चो का भविष्य भी खराब किया जा रहा है। कलेक्टर से अपेक्षा है कि सभी स्कूलों की निरीक्षण रिपोर्ट बुलवाकर ऐसे स्कूलों व शिक्षा अधिकारी के विरूद्ध कार्यवाही करेंगे।
जनसुनवाई में व्यवस्था और बेहतर होगी
प्रति सप्ताह मंगलवार को आम व्यक्तियों की समस्याओं के निराकरण के लिए जनसुनवाई मल्हार स्मृति मंदिर में प्रातः 10.30 बजे से आयोजित की जा रही है। जनसुनवाई को बेहतर बनाया जा रहा है। इसके लिए जिला स्तरीय जनसुनवाई को सीएम हेल्पलाइन पोर्टल के साथ एकीकृत कर दिया गया है। जनसुनवाई को और सुविधाजनक बनाने के लिए कलेक्टर आशीष सिंह ने अतिरिक्त अधिकारीध्कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई है।