नेट न्यूट्रैलिटी के पक्ष में ट्राई का फैसला : कंटेंट के आधार पर किसी के साथ भेदभाव नहीं

0
147

नई दिल्ली। इंटरेनट सेवा प्रदाताओं और एप डेवलपर के बीच चल रहे विवाद का अंत हो गया है। भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) ने नेट न्यूट्रैलिटी के पक्ष में अपना फैसला सुनाया है। ट्राई ने कहा कि इंटरनेट सेवा प्रदाता कंटेंट के आधार पर किसी के साथ भेदभाव नहीं कर सकता है। उसे अपने सिद्धांत इंटरनेट एक खुला मंत्र पर खड़ा रहना चाहिए। ट्राई ने लाइसेंस नियमों में संशोधन की बात कही है और उसका कहना है कि इससे इंटरनेट आधारित सामग्री को लेकर किसी भी ग्राहक के साथ भेदभाव पर अंकुश लगेगा। ट्राई ने कहा है कि इंटरनेट की आजादी बनी रहनी चाहिए।

गौरतलब है कि भारत में इंटरनेट सेवा देने वाली कंपनियों और एप डेवलपर के बीच काफी समय से नेट न्यूट्रैलिटी को लेकर एक लंबे समय से विवाद चल रहा है। यहां नेट न्यूट्रैलिटी को लेकर दूसरे देशों की तरह कानून भी नहीं है।